Ask a Question

Bharat Durdasha (Skit)

  • Rs. 174.00


Author: Bhartendu Harishchandra

ISBN: 819105213X

Number Of Pages: 72

Publisher: PARAG PRAKASHAN

Details: Hindi Description- भारतेन्दु जी को अतीत भारत के शौर्य, वीरता, सभ्यता, सांस्कृतिक उच्चता पर गर्व था । भारत के अतीत गौरव का स्मरण कराकर वे हिन्दू जाति को वीर, कर्मइ, सुसभ्य और उन्नत बनाना चाहते थे । आत्म-हीनता के स्थान पर स्वाभिमान और आत्म गौरव जगाना उनका उíेश्य था । भारत दुर्दशा के आरम्भ में योगी का गान इसी भावाशय का द्योतक है ।


We Also Recommend


Questions & Answers

Have a Question?

Be the first to ask a question about this.

Ask a Question
 
Menu
Sale

Unavailable

Sold Out

FB Twitter YouTube InstaGram